इजहार शायरी हिंदी | Izhaar Shayari in Hindi.

इजहार शायरी हिंदी : हेलो दोस्तों आज हम इस पोस्ट में Izhaar Shayari in Hindi लेकर आए हैं जो की आपको बेहद पसंद आएगी और फ्रेंड अगर आपको हमारा यह पोस्ट इजहार शायरी हिंदी पसंद आए तो कमेंट करके जरूर बताइएगा की आपको यह पोस्ट कैसा लगा।

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

इश्क करो तो मुस्कुरा कर,
किसी को धोखा न दो अपना बना कर,
करलो याद जब तक जिन्दा हैं,
फिर न कहना चले गये दिल में यादे बसा कर।

  1. पयार का इजहार शायरी

मत पूछना कभी दोबारा,
कि तुम मेरे क्या लगते हो,
जैसे दिल के लिए धड़कन जरूरी है
वैसे मेरी साँसों के लिए तुम जरूरी हो..!!

इजहार शायरी हिंदी  Izhaar Shayari in Hindi
इजहार शायरी हिंदी Izhaar Shayari in Hindi

मोहब्बत में नशा तेरे इंतजार का है
इस दिल में नशा तेरे दीदार का है
ना होश में ला मुझे मदहोश ही रहने दे,
मेरे इन नैनो में नशा तेरे प्यार का है…

तुम शायरी की बात करती हो,
मैं तो बातें भी कमाल करता हूँ।

  1. Izhaar Shayari in Hindi

खुशी से अपना दिल आबाद करना,
हर ग़म को अपने दिल से आजाद करना,
बस आपसे एक ही गुजारिश है हमारी,
यूं ही उम्र भर हमसे हमेशा प्यार करना।

वो हमें अपना रो-रोकर दर्द सुनाते रहे,
हमारी तन्हाईओं से अपनी नज़र चुराते रहे,
दे दिया हमें बेवफ़ा नाम उन्होंने,
क्योंकि हम अपना दर्द अपनी मुस्कराहट में छुपाते रहे..!!

फलसफा समझो न असरारे सियासत समझो,
जिन्दगी सिर्फ हकीक़त है हकीक़त समझो,
जाने किस दिन हो हवायें भी नीलाम यहाँ,
आज तो साँस भी लेते हो ग़नीमत समझो।

  1. Izhaar Shayari Hindi

उसकी तलाश में जब मैंने भटकना छोड़ दिया,
यादों में उनकी खोकर मैंने तड़पना छोड़ दिया,
वो आये तो सही लेकिन उस वक़्त,
जब इस दिल ने उनके लिए धड़कना छोड़ दिया..!!

तुमने देखा ही नहीं हमसे बनाके वरना,
तुम्हे वो मक़ाम देते की ज़माना देखता।

मैं हूँ और साथ तेरी बिखरी हुई यादें हैं,
क्या इसी चीज़ को कहते हैं गुज़ारा होना।
वो मेरे बाद भी खुश होगा किसी और के साथ,
मीठे चश्मों को कहाँ आता है खरा होना।

 

आँखो की चमक पलकों की शान हो तुम,
चेहरे की हँसी लबों की मुस्कान हो तुम,
धड़कता है दिल बस तुम्हारी आरज़ू मे,
फिर कैसे ना कहूँ मेरी जान हो तुम.

समय के साथ बदल जाओ,
या फिर समय बदलना सीख लो,
कभी भी किस्मत को मत कोसो,
हर हाल में संभलना सीख लो..!!

कहते थे तुझको लोग मसीहा मग़र यहां,
एक शख्स मर गया तुझे देखने के बाद।

  1. इजहार ए-इश्क शायरी

जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता,
मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता,
काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त,
फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता।

अमल से भी मांगा वफा से भी मांगा,
तुझे मैंने तेरी रज़ा से भी मांगा,
न कुछ हो सका तो दुआ से भी मांगा,
कसम है खुदा की खुदा से भी मांगा।

तुम मुस्कुरा दो तो दिन निकल जाए,
ख़ामोश रहो तो रात होती है,
कौन सा ग़म कैसा ग़म,
ये सब बेकार की बातें होती हैं..!!

  1. इजहार शायरी हिंदी

अल्फाज़ की शक्ल में एहसास लिखा जाता है,
यहाँ पर पानी को प्यास लिखा जाता है,
मेरे जज़्बात से वाकिफ है मेरी कलम भी,
प्यार लिखूं तो तेरा नाम लिखा जाता है।

रात होगी तो चाँद दुहाई देगा,
ख्वाबों में उसका चेहरा दिखाई देगा,
ये इश्क है ज़रा सोच समझ कर करना,
क्यूंकि यहाँ एक आंसू भी गिरा तो सुनाई देगा।

दिल की जिद हो तुम वरना,
इन आँखों ने बहुत लोग देखे हैं।

  1. सच्चे प्यार का इजहार

कहीं बेहतर है तेरी अमीरी से मुफलिसी मेरी,
चंद सिक्कों की खातिर तूने क्या नहीं खोया है,
माना नहीं है मखमल का बिछौना मेरे पास,
पर तू ये बता कितनी रातें चैन से सोया है।

हँसते रहो सदा हँसने में क्या ग़म है,
दुनिया में परेशानी किसको कम है,
ख़ुशी-ख़ुशी बिताओं यह ज़िन्दगी अपनी,
क्योंकि इसी का नाम तो कभी ख़ुशी कभी ग़म है..!!

मेरी आंखों के ख्वाब, दिल के अरमान हो तुम,
तुम से ही तो मै हूं, मेरी पहचान हो तुम,
मैं जमीन हूं अगर तो मेरे आसमान हो तुम,
सच मानो मेरे लिए तो सारा जहान हो तुम।

हमारा ज़िक्र भी अब जुर्म हो गया है वहाँ,
दिनों की बात है महफ़िल की आबरू हम थे,
ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर,
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे।

Leave a Comment