Jazbaat Shayari In Hindi | जज्बात शायरी

Jazbaat Shayari In Hindi | जज्बात शायरी : हेलो दोस्तों आज हम इस पोस्ट में जज्बात शायरी : Jazbaat Shayari In Hindi लेकर आए हैं जो की आपको बेहद पसंद आएगी और फ्रेंड अगर आपको हमारा यह पोस्ट Jazbaat Shayari पसंद आए तो कमेंट करके जरूर बताइएगा की आपको यह पोस्ट कैसा लगा।

हवा की मौजो मे आज फिर गजब की नजाकत है
जरुर आज उसने मुझे दिल से याद किया होगा

[NEW] जज्बात शायरी : Jazbaat Shayari In Hindi
[NEW] जज्बात शायरी : Jazbaat Shayari In Hindi

पूनम का पूरा चांद भी निकला है आसमान में,
हवाएं भी फूलों की महक लाती हैं,
न जाने क्यों तुम्हारी याद आते ही,
मेरे चेहरे पर मुस्कान सी छा जाती है।

जज्बात शायरी

किरदार की अजमत को गिरने ना दिया हमने
धोखे तो बहुत खाए पर धोखा नहीं दिया हमने

डरते थे हम जिससे,
फिर वही बात हो गई,
जो तुम छोड़कर चले गए,
जिंदगी एक तन्हा रात हो गई।

कभी-कभी किसी अपने इतनी याद आती है
कि रोने के लिए रात भी कम पड़ जाती है

हिन्दी शायरी दर्द ए दिल। Dard Shayari in Hindi.

कैसी बीती रात किसी से मत कहना,
सपनो वाली बात किसी से मत कहना,
कैसे उठे बादल और कहां जाकर टकराए,
कैसी हुई बरसात किसी से मत कहना.

रात और दिन का फ़ासला है
दोनों के दरमियाँ,
सूरज रोज़ जलता है
चाँदनी से मिलने के लिए।

लो एक बार फिर मुझे तेरी याद आई,
अब तो डसती है तुम्हारी ये रुसवाई,
फिर से रोशन कर दो गमगीन रात को,
बहुत तड़पाती है इन रातों की तन्हाई।

Jazbaat Shayari

तेरी मोहब्बत के तरीकों को मान गए
खुद तो वादों से बंधे नहीं हमें यादों से बांध गए

ख़्वाब के प्याले से हो कर
नींद आंखों में पिघल रही है,
बिखरी हुई रात आसमां से
यूं आहिस्ता उतर रही है।

खामोश शहर की चीखती रातें,
सब चुप है पर, कहने को है हजार बातें.

इक उम्र कट गई है तिरे इंतिज़ार में
ऐसे भी हैं कि कट न सकी जिन से एक रात

तेरी आँखों के ये जो प्याले हैं,
मेरी अंधेरी रातों के उजाले हैं,
पीता हूँ जाम पर जाम तेरे नाम का,
हम तो शराबी बे-शराब वाले हैं.

धड़कते रहेंगे तुम्हारे दिल की गहराइयों में दिन रात हम,
जो कभी खत्म न हो वो ख्वाब हैं हम।

Shayari In Hindi

रात ही वो नेक दिल मां कि जिस की गोद में,
हम सराहनो के तले मुँह को छुपा कर सो सकें. अनु जसरोटिया

कितने दिनों से न रात,
न सुबह वक़्त पर हुई,
कौन पहले बात करेगा,
बात इस शर्त पर हुई।

माना कि वो मुझे रुलाती बहुत है पर,
मुझे रोता देख खुद भी नहीं रह पाती है।

ये रात चांदनी बनकर आपके आँगन आए,
ये तारे सारे लोरी गा कर आपको सुलाए,
हो आपके इतने प्यारे सपने यार,
की नींद में भी आप मुस्कुराएं.

अलोन शायरी। | Alone shayari in Hindi.

पता है तुम्हें, मैं बहुत बातें करता हूँ,
तुम्हारी चाँद से,अक्सर रातों में.

कहीं पर शाम ढलती है कहीं पर रात होती है
अकेले गुमसुम रहते हैं न किसी से बात होती है
तुमसे मिलने की आरज़ू दिल बहलने नहीं देती
तन्हाई में आँखों से रुक.रुक के बरसात होती है।

[NEW] जज्बात शायरी

इश्क के नशे मे डूबे तो जाना हमने फ़राज़
के दर्द मे तन्हाई नही होती तन्हाई मे दर्द होता हैं!

यादों में आपके तन्हा बैठे हैं
आपके बिना लबों की हँसी गँवा बैठे हैं
आपकी दुनिया में अँधेरा ना हो
इसलिए खुद का दिल जला बैठे हैं।

अब तो याद भी उसकी आती नहीं
कितनी तनहा हो गई तन्हाईयाँ

ऐ सनम तू साथ है मेरे मेरी हर तन्हाई में
कोई गम नहीं की तुमने वफ़ा नहीं की
इतना ही बहुत है की तू शामिल है मेरी तबाही में।

Jazbaat Shayari In Hindi

आदत मेरी अंधेरों से डरने की डाल कर,
एक शख्स मेरी जिंदगी को रात कर गया.

तुमने कुछ कहा ना कुछ सुना हमने,
और इशारों में ही सारी बात हो गई,
वक्त का पता दोनों को ही नहीं चला,
लो फिर से हसीन चांदनी रात हो गई।

मुझे आग़ोश में ले कर तेरे किससे सुनती हैं,
मेरी रातें मुझे अक्सर सुलाना भूल जाती हैं।

Leave a Comment