Sangharsh Hosala shayari | संघर्ष हौसला पर शायरी

संघर्ष हौसला पर शायरी : हेलो दोस्तों आज हम इस पोस्ट में Sangharsh shayari Hindi लेकर आए हैं जो की आपको बेहद पसंद आएगी और फ्रेंड अगर आपको हमारा यह पोस्ट संघर्ष हौसला पर शायरी पसंद आए तो कमेंट करके जरूर बताइएगा की आपको यह पोस्ट कैसा लगा।

  1. संघर्ष हौसला पर शायरी

जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा,
जो चल रहा है उसके पाँव में छाला होगा,
बिना संघर्ष के इंसान चमक नहीं सकता,
जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा.

Sangharsh Hosala shayari | संघर्ष हौसला पर शायरी
Sangharsh Hosala shayari | संघर्ष हौसला पर शायरी

 

जिंदगी एक संघर्ष है, लेकिन नजारा शानदार है।
जीवन में गिरना भी अच्छा है, औकात का पता चलता है।
बढ़ते हैं जब हाथ उठाने को तो अपनों का पता चलता है।

सफलता का आशीर्वाद केवल उन्हें ही मिलता है
जिन्होंने कभी संघर्ष के क़दमों को स्पर्श किया हो।

यूँ ही नहीं रोशन हुआ है चारों ओर नाम मेरा
जल रही है एक आग जो मैंने अपने सीने में जलायी थी,
दिन-रात सहेज कर रखी मैंने उस आग की जलन
उसी जलन में किये संघर्ष ने मुझे मेरी पहचान दिलाई थी।

ठोकर खा कर गिरना फिर खुद
को खुद ही संभालना फिर
दोबारा से चलना यही संघर्ष है
यही जीवन का सत्य है।

आपका संघर्ष जितना बड़ा होगा
आपकी सफलता उतनी ही बड़ी होगी।

  1. Sangharsh shayari Hindi

वो क्या पा लेंगे अपने ख्वाबों का आसमान
जिनकी हद बस जमीन तक सीमित है,
यूँ ही नहीं मिल जाते ऐश और आराम जिन्दगी में
संघर्ष ही कामयाबी की होती कीमत है।

जहां कोई संघर्ष नहीं है,
वहां कोई ताकत नहीं है।

खाली बैठ कर खुली आँखों से सपने
देखने का कोई परिणाम नहीं
निकलता, मुसीबतों के सागर हाथ
पैर मारे बिना पार नहीं होते।

जितनी भारी मुसीबतों की ज़ंजीरें
आपके क़दमों में बंधी रहेंगी इनके
उतरने पर आपकी उड़ान उतनी ऊँची होगी।

यहाँ सतत संघर्ष विफलता,
कोलाहल का यहाँ राज है,
अन्धकार में दौड़ लग रही,
मतवाला यह सब समाज है.

खाली बैठ कर खुली आँखों से सपने देखने
का कोई परिणाम नहीं निकलता,
मुसीबतों के सागर हाथ पैर मारे बिना पार नहीं होते।

चलना पड़ता है अंगारों पर इतिहास रचाने को
बिना ताकत झोंके तो एक जर्रा भी हिल नहीं सकता,
संघर्ष ही दिलाता है एक इंसान को मुकाम उसका
बिन मेहनत के कोई फल मिल नहीं सकता।

  1. संघर्ष पर शायरी

संघर्ष में आदमी अकेला होता है,
सफलता में दुनिया उसके साथ होती है,
जब-जब जग उस पर हंसा है,
तब-तब उसी ने इतिहास रचा है…

ठोकर खा कर गिरना फिर खुद को खुद
ही संभालना फिर दोबारा से चलना यही
संघर्ष है यही जीवन का सत्य है।

अपने आप को दुर्भाग्यशाली
समझना सही नहीं है क्यूंकि आप
अकेले नहीं है जो संघर्ष कर रहे हैं।

पानी हैं मंजिलें तो राहों का होना ही होगा
कुछ पाने के लिए जिन्दगी में कुछ तो खोना ही होगा,
बिना संघर्ष किसे मिलती है कामयाबी यहाँ
तब तलक तो जिन्दगी का बोझ ढोना ही होगा।

दूर तक चलने के लिए लिए अपने क़दमों से
ज़ंजीर हटा दीजिए और कभी चलते हुए ध्यान न
भटके इसीलिए अपने मुँह पर ताला लगा दीजिए।

किसी भी मुश्किल को उसके बनाये गए
लेवल पर हल नहीं किया जा सकता,
उस मुसीबत को उस लेवल से ऊपर
उठने पर ही हल किया जा सकता है।

इस से फ़र्क़ नहीं पड़ता की आप कितनी जल्दी
गिर जाते हैं फ़र्क़ इस से पड़ता है की आप
कितनी जल्दी फिर उठ खड़े होते है।

  1. Sangharsh shayari in Hindi

संघर्ष की राहों में कठिनाइयां तो आएँगी
जीवन का सच यही हमें बतायेंगी,
बढाते रहना कदम सब कुछ सहते हुए
एक दिन ये जिन्दगी खुशियों से सज जाएगी।

रुक जाइए और पछताइए यह सोच कर की मैं
क्यों रुक गया या फिर चलते रहिए और
खुद को खुद पर गर्व करने का एक मौका दीजिए।

आप तब कुछ नहीं कर पाते जब
आप खुद को उनकी नज़रों से देखने
लगते हैं जो सोचते हैं की आप कुछ
नहीं कर सकते।

अगर हम अपने प्रयासों को साहसपूर्वक जारी रखते हैं,
तो जीत तब भी होगी जब कभी-कभी वे व्यर्थ दिखाई देते हैं।

बीतेगा ये दौर और वो दौर भी बीत जायेगा,
संघर्ष की इस आंधी के बाद एक नया दृश्य आएगा,
डटे रहना मैदान में चाहे कितना भी शोर हो
एक दिन ये जमाना तुम्हारे गीत गायेगा।

Due to spem comment we have closed the comment box of our site.
स्पैम कमेंट के कारण हमने अपनी साइट के कमेंट बॉक्स को बंद कर दिया है।