है मौसम प्यार का थोड़ा प्यार कर लो , करते हो मोहब्बत अगर तो बाँहों में हमे भर लो , चलो मेरे संग सपनो की दुनिया में घूम लो , रोज़ हम चूमा करते हैं आज तुम हमें चूम लो…

मेरे जीने की नई आस हो तुम, मेरी ज़िन्दगी की प्यास हो तुम, ढूंढता है दिल जिसे बेसब्र होकर, ज़िन्दगी की वो तलाश हो तुम…

काश मेरे होठ तेरे होठों को छू जाए, देखों जहा बस तेरा ही चेरा नज़र आये, हो जाए हमारा रिश्ता कुछ ऐसा होठों के साथ हमारा दिल भी जुड़ जाए…

कसूर तोह था ही इन निगाहों का, जो चुपके से दीदार कर बेठा, हमने तो खामोश रहने की ठानी थी, पर बेवफा ये जुबान इज़हार कर बेठा…

दिल करता है ज़िन्दगी तुझे दे दू, ज़िन्दगी की सारी खुशिया तुझे दे दू, दे दे अगर तू मुझे भरोसा अपने साथ का, तो यकीन मान अपनी सांसे भी तुझे दे दू…

होठों से तेरे होठों को गीला कर दूँ तेरे होठों को में और भी रसीला कर दूँ, तु इस क़दर प्यार करे की प्यार की इन्तहा हो जाये, तेरे होठों को चूस कर तुझे और भी जोशीला कर दूँ…

आज बारिश में तेरे संग नहाना हैं, सपना ये मेरा कितना सुहाना हैं, बारिश की बूँदे जो गिरे तेरे होंठो पे, उन्हें अपने होंठो से उठाना हैं…