Pyar Bhari Shayari for Girlfriend.

तू उदास मत हुआ कर इन हजारों के बीच, आख़िर चांद भी अकेला रहता हैं सितारों के बीच।

कैसे गुजरती है मेरी हर एक शाम तुम्हारे बगैर, अगर तुम देख लेते तो कभी तन्हा न छोड़ते मुझे।

क्या करूँ इन आँसुओ का बिन बोले बहे जा रहे है, लगता है आपकी यादों के साथ साथ चले आ रहे है।

कहाँ मिलता है अब कोई समझने वाला जोभी मिलता है समझा के चला जाता है

लिखना था कि खुश हैं, तेरे बगैर भी यहां हम, मगर कमबख्त आंसू हैं कि, कलम से पहले ही चल दिए।

तुम क्या जानो हम अपने आप में कितने अकेले है,पूछो इन रातो से जो रोज़ कहती है के खुदा के लिए आज तो सो जाओ.

हम भी जिया करते थे कभी, परिंदे जैसी आजादी लेकर, फिर एक शख्स आया, मोहब्बत की आड़ में, मेरी बर्बादी लेकर।